वल्र्ड स्टुडेंट्स डे पर कलाकारों ने अपने स्टुडेंट्स लाइफ की कहानियां सुनाई

स्टुडेंट्स लाइफ हर किसी के लिये हमेशा से ही खास और यादगार होता है। दोस्तों के साथ मस्ती भरे पल, शिक्षकों से मिलने वाले जिंदगी के सबक, खुद पर विश्वास और जीवन में सर्वश्रेष्ठ हासिल करने की आकांक्षा इसे हमारी जिंदगी का सबसे अच्छा दौर बना देती है। वल्र्ड स्टुडेंट्स डे, जो हर साल 15 अक्टूबर को मनाया जाता है, के अवसर पर एण्डटीवी के कलाकारों आयुध भानुशाली (‘दूसरी माँ‘ के कृष्णा), योगेश त्रिपाठी (‘हप्पू की उलटन पलटन‘ के दरोगा हप्पू सिंह) और शुभांगी अत्रे (‘भाबीजी घर पर हैं‘ की अंगूरी भाबी) ने अपने विद्यार्थी जीवन (स्टुडेंट लाइफ) के बारे में बात की।

आयुध भानुशाली, जोकि एण्डटीवी के शो ‘दूसरी माँ‘ में कृष्णा का किरदार निभा रहे हैं, ने कहा, ‘‘मैं अपने स्कूल से वाकई में बहुत प्यार करता हूं, क्योंकि उनकी मदद से मैं ऐक्टिंग के अपने शौक को पूरा कर पा रहा हूं। मेरे सभी टीचर्स बेहद सपोर्टिव हैं और इस बात का ध्यान रखते हैं कि मैं जयुपर में अपने शो ‘दूसरी माँ‘ की शूटिंग करने के साथ ही अपनी पढ़ाई पर भी फोकस कर पाऊं। मेरे सभी टीचर्स मुझे बहुत प्यार करते हैं। मैं अपने स्कूल के दोस्तों को भी बहुत प्यार करता हूं, क्योंकि वे बहुत नेकदिल हैं और हमेशा मेरी मदद करते हैं। वे मेरे क्लासमेट्स ही हैं, जो सारे नोट्स कराने में मेरी मदद करते हैं। मैं जब भी स्कूल जाता हूं, खासतौर से मेरी परीक्षाओं के दौरान, अपने दोस्तों के लिये थोड़ा ज्यादा खाना लेकर जरूर जाता हूं, ताकि हम अपने लंच ब्रेक्स में साथ बैठकर उनका आनंद उठा सकें। मुझे पढ़ाई करना, क्रिकेट खेलना और स्कूल की सभी एक्ट्राकुरिकुलर एक्टीविटीज में भाग लेना अच्छा लगता है।‘‘

योगेश त्रिपाठी, जोकि एण्डटीवी के ‘हप्पू की उलटन पलटन‘ में दरोगा हप्पू सिंह का किरदार निभा रहे हैं, ने कहा, ‘‘शिक्षकों वाले परिवार से ताल्लुक रखने, जिसमें मेरे सभी रिश्तेदार टीचर, प्रोफेसर या प्रिंसिपल हैं, के बावजूद बचपन में मेरा मन पढ़ाई-लिखाई में बहुत ज्यादा नहंी लगता था। हालांकि, मैंने कभी भी पढ़ाई को नजरअंदाज नहीं किया ओर हमेशा अच्छे अंक लाने में कामयाब रहा। जब स्टुडेंट था, तो काफी शरारती हुआ करता था और होमवर्क करने में मुझे सबसे कम मन लगता था। सबसे मजेदार बात यह थी कि मैं होमवर्क नहीं करने के एक-से-बढ़कर-एक अजीबो-गरीब बहाने बनाया करता था। मेरी इस बात का क्लास के सभी लोग बहुत मजा लिया करते थे। आमतौर पर मैं हमेशा कहता था कि मुझे सारे सवाल समझ में ही नहीं आये, जबकि मेरे क्लासमेट्स को पता होता था कि होमवर्क नहीं करने का असली कारण यह नहीं है (हंसते हैं)। इसके साथ ही रिजल्ट वाला दिन मेरे स्टुडेंट लाइफ का सबसे डरावना दिन हुआ करता था। मुझे याद है कि एक बोर्ड परीक्षा के दौरान, मैं मेरे परिवार वालों से कहा था कि ‘काश आज सारे पेपर ही जल जायें‘‘ और आप कल्पना कर सकते हैं कि टीचर्स होने के नाते उनका रिएक्शन क्या रहा होगा (हंसते हैं)। मैं जब अपने स्टुडेंट लाइफ पर नजर डालता हूं, तो मुझे महसूस होता है कि यह कभी भी ग्रेड्स और परीक्षाओं को लेकर रहा ही नहीं, बल्कि तो उस समय और यादों के बारे में था, जो मैंने अपने दोस्तों एवं टीसर्च के साथ बिताई और बनाई। इसलिये मैं हमेशा अपने बेटे से न सिर्फ पढ़ाई पर ध्यान देने के लिये कहता हूं, क्योंकि यह जिंदगी की बुनियादी जरूरत है, बल्कि स्टुडेंट लाइफ का आनंद लेने की भी सलाह देता हूं, क्योंकि यह समय कभी भी वापस लौटकर नहीं आने वाला है।‘‘

शुभांगी अत्रे, जोकि एण्डटीवी के ‘भाबीजी घर पर हैं‘ में अंगूरी भाबी का किरदार निभा रही हैं, ने कहा, ‘‘स्टुडेंट लाइफ जिंदगी का सबसे अच्छा दौर होता है, क्योंकि यह हमें कुछ नया सीखने, जिंदगी भर साथ निभाने वाले दोस्त बनाने, कभी न भूल पाने वाली यादों को संजोने में सक्षम बनाता है। सिर्फ यही वो समय होता है, जब हम पर काम का प्रेशर नहीं होता या हमें पैसे कमाने की चिंता नहीं होती है। मैं दिल से चाहती हूं कि काश अपनी जिंदगी के उन खुशहाल पलों को दोबारा जी पाऊं। वे पल मेरे लिये अनमोल हैं। स्कूल की वो ट्रिप्स जिंदगी भर मेरी यादों में बसी रहेंगी। अपने स्कूल के दिनों में, मैंने और मेरे दोस्तों ने कभी भी इस बात की चिंता नहीं की कि हम कहां जा रहे हैं, बल्कि हमने इस बात पर ज्यादा फोकस किया कि हम मस्ती करें और पूरा दिन एकसाथ बितायें। इसके अलावा, जब पूरे दिन हमारे लेकचर्स होते थे , तो लंचटाइम हमारे लिये  सबसे अच्छा समय हुआ करता था, जब हम एकसाथ बैठकर गप्पे मारते थे और मस्ती करते थे। मैं अपनी बेटी, जो कि अभी 12वीं क्लास में है, से भी कहती हूं कि जितना हो सके अपनी पढ़ाई के दिनों का आनंद उठाये।‘‘

getmovieinfo.com

Related posts