मेरे साईं के तुषार दलवी ने स्वयं की बुराइयों को पहचानने और जीवन के वास्तविक लक्ष्य पर ध्यान केंद्रित करने के महत्व की बात की

मेरे साईं: श्रद्धा और सबुरी, सोनी एंटरटेनमेंट टेलीविजन के सबसे लंबे समय तक चलने वाले पौराणिक शो में से एक है और चैनल ने शुरुआत से भारतीय टेलीविजन पर पौराणिक कथाओं के मामले में सबसे आगे की पायदान पर कब्जा जमा रखा है। साईं नगरी शिर्डी अब औद्योगीकरण के दौर से गुजर रहा है जिसने प्रगति और लोगों की जीवनशैली में बदलाव के द्वार खोले है। हर कोई खेती-बाड़ी से 9-5 की नौकरी का पैटर्न पसंद कर रहा है, जो निस्संदेह लोगों के लिए समृद्धि लाता है, लेकिन साथ ही साथ व्यक्तिगत जीवन को भी असंतुलित करता है। साईं बाबा (तुषार दलवी) शिरडी के लोगों को स्थिर जीवन जीने के लिए व्यक्तिगत जीवन और पेशेवर जीवन में सही संतुलन बनाने में मदद करते हुए दिखाई देते हैं। जैसे-जैसे लोग अधिक आधुनिक जीवनशैली की ओर बढ़ने लगे हैं, उनके मन में कई इच्छाएं जागी हुई हैं जो उन्हें वास्तविक लक्ष्य से भटका देती हैं।

शो में साईं बाबा की भूमिका निभाने वाले तुषार दलवी अपना ध्यान भटकाने और जीवन के वास्तविक लक्ष्य पर ध्यान केंद्रित करने के महत्व पर प्रकाश डालते हैं। उन्होंने कहा, “एक व्यक्ति को अपने जीवन के उद्देश्य और लक्ष्यों को कभी नहीं भूलना चाहिए। यह बहुत स्पष्ट है कि जीवन नई इच्छाओं और अड़चनों से भरा है जो आपके ध्यान को आपके जीवन के अंतिम उद्देश्य से अलग दिशा में ले जाता है। हमेशा याद रखें, जब भी कोई चीज आपको आकर्षित करती है और आप उसके लिए झूठ बोलना शुरू करते हैं, तो बस अपने आप से पूछें कि क्या आप अपनी इच्छाओं के नियंत्रण में हैं या आप उन्हें नियंत्रित कर रहे हैं। जब किसी व्यक्ति का मन व्याकुलता और इच्छाओं से कमजोर हो जाता है, तो उसकी कमजोरी उसके शोषण का मुख्य कारण बन जाती है। और ऐसी स्थिति का फायदा उठाने के लिए हमेशा तीसरा व्यक्ति तैयार ही रहता है। साईं बाबा भी मानते हैं, हमें केवल अपनी जिम्मेदारियों पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए ताकि हम विचलित न हों और बेहतर जीवन जी सकें।”

getmovieinfo.com

Related posts