सोनी टीवी के ‘मेरे साईं : श्रद्धा और सबुरी’ का आगामी ट्रैक बताएगा हर मुश्किल पार करके लगन पूरी करने की अहमियत

सोनी एंटरटेनमेंट टेलीविजन के शो ‘मेरे साईं : श्रद्धा और सबुरी’ के वर्तमान ट्रैक में दर्शकों को उर्वशी की जिंदगी की झलक देखने को मिलेगी, जिसमें डांस की लगन है, लेकिन एक अनहोनी घटना में वो अपने पैर खो देती है। हालांकि अपने पक्के इरादे और साईं बाबा (तुषार दल्वी) की मदद से वो हर परिस्थिति से जीत जाती है। इस ट्रैक में उर्वशी का रोल बाल कलाकार वैष्णवी प्रजापति निभा रही हैं। इसमें उर्वशी एक उभरती हुई डांसर है, लेकिन उसके चाचा उसकी इस कला को नीची नजरों से देखते हैं। हालांकि उसके पिता उसका साथ देते हैं, लेकिन उनकी आर्थिक स्थिति कमजोर होने की वजह से सारे फैसले उसके चाचा ही लेते हैं। अपने इस अधिकार के चलते वो उसकी शादी की उम्र भी तय कर देते हैं। इसका नतीजा यह होता है कि उसे डांस के प्रति अपनी लगन को छोड़ने का फैसला लेना पड़ता है।

हालांकि साईं इससे सहमत नहीं होते और वो उर्वशी को उसकी लगन की राह पर आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करते हैं। इस बीच जब उर्वशी उत्साह में आकर शिर्डी में शिवरात्रि नाटक मंडली में प्रस्तुति देती है, तब एक दुर्घटना हो जाती है और उसके पैरों में गंभीर चोट लग जाती है, जिससे वो जिंदगी भर के लिए अपाहिज हो जाती है। लेकिन इस दुर्घटना के बाद भी साईं इस लड़की में उम्मीद जगाते हैं, जिससे प्रेरित होकर उर्वशी तमाम मुश्किलों को पार करते हुए एक टांग से ही खुद को डांस में प्रशिक्षित करती है।


अपने रोल के बारे में बात करते हुए वैष्णवी प्रजापति कहती हैं, “मैं उर्वशी के किरदार की वाकई तारीफ करूंगी क्योंकि वो कभी हार नहीं मानती और कोशिश करती रहती है। मैं अपनी जिंदगी में भी यही नियम अपनाती हूं। मैं मानती हूं किसी चीज में कुशल होने के लिए वक्त लगता है और इसमें समर्पण और धैर्य की जरूरत भी होती है। इस कहानी में हम देखेंगे कि किस तरह साईं बाबा उर्वशी को बार-बार यह प्रेरणा देते हैं कि वो अपनी लगन का साथ ना छोड़े और अपने सपनों को पूरा करने के लिए लगातार आगे बढ़ते रहें। चाहे शादी हो, ग्रेजुएशन हो या फिर कोई भी आम दिन, इनमें से कोई भी आपको उपलब्धि का एहसास नहीं कराता।”

getmovieinfo.com

Related posts