इस हफ्ते एण्डटीवी दर्शक के लिए होगा शो के  कहानी में ट्विस्ट!

इस हफ्ते एण्डटीवी के दर्शक ‘दूसरी माँ‘, ‘हप्पू की उलटन पलटन‘ और ‘भाबीजी घर पर हैं‘ जैसे शोज में कुछ दिलचस्प ट्विस्ट्स देखेंगे। एण्डटीवी के ‘दूसरी माँ‘ के बारे में अशोक ने बताया, ‘‘मालती (अनीता प्रधान) यशोदा (नेहा जोशी) को पुराने बर्तन देती है और कहती है कि वह कृष्णा (आयुध भानुशाली) को उन्हीं में खाना खिलाए। यशोदा और अशोक (मोहित डागा) इसका विरोध करते हैं, लेकिन इससे कुछ नहीं होता। उनकी बेटियाँ आस्था और नुपूर जब कृष्णा के लिये अपने माता-पिता का प्यार देखती हैं तो वे असुरक्षित महसूस करती हैं। कृष्णा को घर से निकालने के लिये वो दोनों सोते समय उसका कंबल चुरा लेती हैं और पंखा चालू कर देती हैं, ताकि उसे परेशानी महसूस हो। दूसरी ओर, यशोदा आधी रात को जागती है, उसे कृष्णा का कंबल काॅरिडोर में मिलता है और वह फिर से उसे ओढ़ा देती है, जिससे आस्था और नुपूर का गुस्सा बढ़ जाता है। अगले दिन कृष्णा के इनडोर बाथरूम का इस्तेमाल करने से ड्रामा और भी बढ़ जाता है, हालांकि, अशोक अपनी बेटियों को मनाता है और उन्हें कृष्णा को आउटडोर बाथरूम का इस्तेमाल करने देने के लिये राजी कर लेता है। कृष्णा को परेशान करने के लिये कामिनी भी उससे अपना काम करवाती है पर यशोदा बीच में आकर यह सब रुकवा देती है। कामिनी कृष्णा के बारे में ज्यादा जानने का फैसला करती है और उसका बैग तलाशने लगती है, जिसमें उसे माला की तस्वीर मिलती है। क्या सभी को कृष्णा के अतीत का पता चल जाएगा?’’

एण्डटीवी के ‘हप्पू की उलटन पलटन‘ के बारे में दरोगा हप्पू सिंह ने बताया, ‘‘हप्पू (योगेश त्रिपाठी) के बच्चे बाल दिवस पर मूवीज देखने के लिये जाने की जिद करते हैं। हप्पू इस बारे में राजेश (कामना पाठक) को बताता है और खर्च पर अपनी चिंता जाहिर करता है; राजेश उसे चिड़ियाघर जाने की सलाह देती है, जहाँ कम खर्चा होगा। हप्पू बच्चों से कहता है कि वह उन्हें शेर दिखाने चिड़ियाघर लेकर जाएगा। शेड्यूल तय करने के लिये जब वह चिड़ियाघर के मैनेजर को फोन करता है, तब उसे बताया जाता है कि चिड़ियाघर में शेर नहीं हैं, क्योंकि उन्हें मध्यप्रदेश के जंगलों में रिलोकेट किया गया है। हप्पू चिंता में पड़ जाता है और समाधान के बारे में सोचने लगता है। कुछ वक्त बाद बिमलेश (सपना सिकरवार) उनके घर आती है और राजेश से यह कहकर बेनी (विश्वनाथ चटर्जी) की शिकायत करती है कि, ‘‘बस मेरे सामने शेर बने फिरते हैं।’’ हप्पू उनकी बातचीत सुन लेता है और एक प्लान बनाता है। वह बेनी के पास जाता है और कहता है कि वह एक दिन के लिये चिड़ियाघर में शेर बन जाए। वह बेनी से कहता है कि बच्चों को खुश करने के लिये जो करना हो, वह करे। ट्विस्ट तब आता है, जब एक असली शेर को उसी पिंजरे में रख दिया जाता है।’’

एण्डटीवी के ‘भाबीजी घर पर हैं‘ के बारे में विभूति नारायण मिश्रा ने बताया, ‘‘अनीता (विदिशा श्रीवास्तव) विभूति (आसिफ शेख) से चाचाजी (अनूप उपाध्याय) को निकालने के लिये कहती है, क्योंकि बाजार में उनके कर्ज से वह परेशान है। विभूति यह बात चाचाजी से कहता है और वे निराश हो जाते हैं। विभूति भी उन्हें छोड़ना नहीं चाहता है और उन्हें हार्ट अटैक का नाटक करने का आइडिया देता है। अनीता को आता देखकर चाचाजी गिर जाते हैं और चिल्लाने लगते हैं कि उन्हें हार्ट अटैक आया है। सक्सेना (सानंद वर्मा) ने स्मूथी एम्बुलेंस सर्विस शुरू की है, वह आता है और उन्हें अस्पताल ले जाता है। वह एम्बुलेंस इतनी तेज चलाता है कि चाचाजी का हाथ टूट जाता है। अंगूरी (शुभांगी अत्रे) को अपने डैडू (राकेश बापट) की याद आती है और वह तिवारी से कहती है कि वह चाचाजी को घर लाकर उनकी देखभाल करना चाहते हैं। यह सुनकर अनीता और विभूति खुश हो जाते हैं और उन्हें तिवारी (रोहिताश्व गौड़) के घर भेज देते हैं। जब तिवारी और अंगूरी चाचाजी का खयाल रखते हैं, तब विभूति को एक काॅल आता है, जिसमें बताया जाता है कि चाचाजी ने 20 करोड़ रूपये का एक केस जीता है। यह सुनकर विभूति और अनीता को झटका लगता है।’’

getmovieinfo.com

Related posts